क्यों हुआ था लंका का नाश, Destruction of Lanka

Destruction of Lanka
If you like the article, please do share

रामायण कथा के अनुसार रावण (Ravan) महापंडित था। उसे भविष्य, भूत, वर्तमान तीनों काल का ज्ञान था। ज्योतिष का प्रकांड विद्वान था। यम, वरुण, कुबेर, शनि, सूर्य आदि को उसने बंदी बना रखा था। सब कुछ होते हुए उसे राक्षस योनि से मुक्त होने का साधन चाहिए था। जिस कारण उसने श्री रामचंद्र जी से शत्रुता की। उसे यह ज्ञान था कि श्री राम जी विष्णु जी के अवतार हैं। यदि इनके हाथ से मेरा और मेरे वंश का विनाश होगा तो हमें मोक्ष प्राप्त होगा। एक तरह से उसने लंका  का विनाश (Destruction of Lanka) स्वयं कराया।

Vanaras-and-Demons-at-Lanka

एक लोकोक्ति कथा के अनुसार उसने अपनी बहन सुपनखा (Supnakha) का विवाह एक राजकुमार से करा दिया। कुछ दिनों बाद समयानुसार सूपनखा को एक पुत्र उत्पन्न हुआ। लगभग 10 वर्ष की आयु में ही उसका पुत्र बहुत बड़ा धनुर्धर और वीर हुआ। उनकी वीरता की प्रशंसा सुनकर रावण उसे देखने गया। रावण उसे अपनी गोद में प्रेमपूर्वक बिठाकर प्यार कर रहा था कि अचानक वह बालक हंसकर बोला मामाजी यह आपके 20 हाथ और 10 सिर अच्छे नहीं लग रहे हैं। कहो तो जो अधिक संख्या में हैं अर्थात 18 हाथ और 9 सिर अपनी तलवार से काट कर फेंक दूं। तब एक सिर और दो हाथ रह जाएंगे।

ravan

अपने भांजे के मुख से ऐसा उच्चारण सुनकर रावण क्रोध से आग बबूला हो गया। उसने सूपनखा के पुत्र को गोदी से उतार दिया और अपने घर चला गया। उधर जब सूपनखा अंदर से आई तो रावण को वहां उपस्थित न पाकर अपने पुत्र से पूछने लगी। बेटे तेरे मामा जी कहां गए? तब बालक ने कहा माता श्री मामा जी चले गए। सूपनखा ने पूछा-क्यों ?

वह बालक कहने लगा कि मैंने मामा जी से इस प्रकार कहा बस वे क्रोधित होकर मुझे नीचे फेंक कर चले गए। इतना सुनते ही सूपनखा के मन में कई तरह की आशंकाएं उठने लगी।उसने अपने पुत्र से कहा कि बेटे तुम्हें इस तरह की बातें नहीं करनी चाहिए थी। अब कोई न कोई अनर्थ होकर रहेगा। तेरे मामा जी बहुत ही क्रोधी स्वभाव के हैं। यह कह कर सूपनखा चुप हो गई और भविष्य में होने वाले अनर्थ की प्रतीक्षा करने लगी।

Read More-

परमात्मा से प्रत्यक्ष संवाद का माध्यम है; प्रार्थना (Prayer)

ग्रहण काल में भोजन करना वर्जित क्यों है?Avoiding Food During Eclipses

एक बार उसने मन में विचार किया कि लंका जाकर अपने भाई से क्षमा प्रार्थना करें किंतु उससे पहले ही एक रात में वह बालक अपने पिता के साथ सोया हुआ था। उसी रात रावण चुपके से आया और अपनी तलवार से पिता पुत्र दोनों की को मौत के घाट उतार दिया। रावण ने अपनी बहन को विधवा बना दिया और पुत्र का वध करके पुत्रहीन कर दिया।

lanka dahan

Image Courtesy-google

 

सूपनखा बहुत रोई, तड़पी और अंत में यह प्रतिज्ञा की कि- हे रावण! तूने ज्ञानवान होकर भी अज्ञानियों जैसा कार्य किया। बालक की बुद्धि पर तनिक भी विचार नहीं किया और मुझ अबला को विधवा बना दिया। मेरा पुत्र भी छीन लिया। आज मैं प्रतिज्ञा करती हूं कि मैं लंका की सभी नारियों को जब तक विधवा नहीं बना डालूंगी तब तक चैन से नहीं बैठूंगी। और हुआ भी वही। सूपनखा की प्रतिज्ञा पूरी हुई और लंका की सभी नारियां विधवा हो गई। अर्थात लंका के सारे पुरुष रामचंद्र (Lord Rama) जी के हाथों मारे गए।
If you like the article, please do share
Uma Singh on FacebookUma Singh on GoogleUma Singh on TwitterUma Singh on Wordpress
Uma Singh
Blogger & Content Manager at News123
Uma Singh is a creative, self motivated & regular blogger on www.news123.in She has done her Post Graduation from Lucknow University, India. Uma loves to watch motivational movies and does cooking at home, she also has a great taste of food.
She tries to give her time dreaming and writing articles for news123. Uma loves to write articles on Lifestyle, Health, Fashion & Religion.
She is good in SEO promotion, Social promotions and Content marketing. You​ ​can​ ​connect​ ​with her social profile​ ​links ​or mail her at contact[at]news123[dot]in