7 लक्षण जो दर्शाते हैं कि आप अवसाद यानी डिप्रेशन से पीड़ित हैं

a depressed girl
If you like the article, please do share

मानसिक तनाव कब डिप्रेशन तक पहुंच जाता है, यह हम समझ ही नहीं पाते। छोटी-छोटी बातों को लेकर चिंतित रहना और उन पर नकारात्मक सोच रखना, डिप्रेशन को जन्म देता है। यह तीन प्रकार का होता है-

1# Mild Depression (डिप्रेशन)-

इस प्रकार के डिप्रेशन में लोग अपने रोजमर्रा की जिंदगी में कुछ बदलाव महसूस करते हैं।

2# Moderate Depression (डिप्रेशन)-

इस प्रकार के अवसाद में लोग कुछ महत्वपूर्ण बदलाव महसूस करते हैं। जैसे- लो फील करना और लोगों से दूरी बनाए रखना।

3# Severe Depression (डिप्रेशन)-

इस स्थिति में व्यक्ति रोजमर्रा का जीवन जीने में असंभव महसूस करने लगता है।

woman attempting suicide

                                                                                        यदि आप बहुत लंबे समय से खुद को दुखी महसूस करते हैं, तब यह स्थिति डिप्रेशन कहलाती है। भारत में 100 में से 17 लोग अपने जीवन को उद्देश्यहीन मानकर डिप्रेशन में चले जाते हैं और आत्महत्या जैसे विचारों से घिर जाते हैं। अधिकांश लोग तो डिप्रेशन की बीमारी को समय रहते पहचान ही नहीं पाते और यह मानसिक तनाव उन्हें आत्महत्या तक पहुंचा देता है।

understanding-recognizing-the-warning-signs-of-depression (डिप्रेशन)

यह एक ऐसी बीमारी बन चुकी है जो विश्व भर में बहुत तेजी से फैल रही है। वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन (WHO) के अनुसार यदि इस बीमारी पर तत्परता से कुछ कदम न उठाए गए तो 2030 तक यह बीमारी एक महामारी की तरह फैल जाएगी।

WHO – The World Health Organization is a specialized agency of the United Nations that is concerned with international public health. It was established on 22 July 1946 headquartered in Geneva, Switzerland.Wikipedia

Visit Website, Click here 

कई लोगों के अनुसार डिप्रेशन एक तरह का दुख भरा अनुभव होता है किंतु ऐसा नहीं है। दुखी होना एक भाव है जो व्यक्तियों को सामान्य रूप से किसी दुखद घटना के होने पर महसूस होता है किंतु डिप्रेशन एक ऐसी फीलिंग है जो लगातार बनी रहती है और जिस से नकारात्मक सोच उत्पन्न होती है जिसके चलते व्यक्ति निराशावादी बन जाता है। ऐसी अवस्था में वह व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति से बातचीत करना भी उचित नहीं समझता यह एक मुश्किल कार्य है कि किसी व्यक्ति में समय रहते डिप्रेशन का पता लगाया जा सके और व्यक्ति को उस डिप्रेशन से बाहर निकाला जा सके।

Symptoms-

कुछ ऐसे लक्षण है जिन्हें आप समझ कर या जानकर डिप्रेशन जैसी बीमारी से बच सकते हैं और लोगों को इससे बचा भी सकते हैं।

-therapy-for-depression-signs-of-depression

1. अंतहीन दुख

जब दुख का अनुभव 2 हफ्ते से अधिक हो जाए और उसका कोई महत्वपूर्ण कारण भी न हो, तब इस प्रकार की अवस्था डिप्रेशन का कारण बनती है। व्यक्ति को अपने दुखी होने का कारण भी नहीं पता रहता और वह असहाय महसूस करता है। ऐसी अवस्था में यदि व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति से बातचीत करें या अपने विचारों को दूसरों से कहे तो वह अवसाद से बच सकता है।

2. हिचकिचाहट या चिड़चिड़ापन महसूस करना-

a depressed girl iritating

यदि आप लंबे समय से खुद को अपसेट या डाउन फील कर रहे हैं या फिर किसी की छोटी सी बात पर भी गुस्सा करते हैं या इरिटेट हो जाते हैं,तो यह अवस्था भी डिप्रेशन का कारण बनती है।

3. किसी काम में लगन न रह जाना-

यदि आप किसी खेल को खेलने के शौकीन है या आपको कोई अन्य शौक है और अचानक आपको अपने इन्हीं कामों में मन नहीं लग रहा तो इसका मतलब है कि आप डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं। ऐसी अवस्था में आपको किसी व्यक्ति के सहारे की जरूरत होती है जो आपको आपके काम के लिए मोटिवेट करें।

4. अलगाव या लोगों से दूर रहने की भावना-

-feeling isolated

यदि व्यक्ति स्वयं को अपने दोस्तों से दूर दूर रखता है किसी सामाजिक गतिविधि में कोई उत्साह प्रकट नहीं कर रहा, लोगों से बातचीत करना लोगों से मिलना जुलना उसे अच्छा नहीं लग रहा तब यह मानसिक स्थिति अवसाद का कारण बनती है।

5. कम या अधिक नींद आना-

अवसाद से ग्रसित व्यक्ति या तो ठीक ढंग से सो नहीं पाता या थोड़ी-थोड़ी देर में उसकी नींद खुल जाती है या फिर वह लंबे समय के लिए सोता रहता है। उसकी दिनचर्या में भी बदलाव आने लगता है यह लक्षण डिप्रेशन की ओर इशारा करता है।

6. खाने की आदतों में बदलाव-

डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्ति अधिक खाना खाने लगता है या उसे खाने से हीन भावना हो जाती है जिससे उसके शरीर पर विपरीत प्रभाव पड़ने लगता है और उसका स्वास्थ्य बिगड़ने लगता है।

7. निराशावादी और आत्महत्या जैसे विचारों का उत्पन्न होना-

hopelessness

Image Courtesy-google

डिप्रेशन से ग्रसित व्यक्ति खुद को होपलेस और आइसोलेटेड महसूस करता है उसे अपने जीवन का कोई उद्देश्य नजर नहीं आता। इस तरह की बातों को मन में बार-बार लाने से उनके अंदर आत्महत्या करने का विचार भी पनपने लगता है।

यह भी पढ़े-

— 10 जरुरी बाते जो दर्शाती है की आपके शरीर में पानी की कमी है

— सेहत के लिए बेहतर है गुनगुना दूध(Hot Milk)

निष्कर्ष-

उपरोक्त लिखी हुई बातों को पढ़कर आप समझ ही गए होंगे की व्यक्ति किस तरह अनजाने में अवसाद जैसी बीमारी को अपने अंदर जन्म देता है और अपने जीवन को उद्देश्यहीन बना बैठता है। आशा है कि यह आर्टिकल पढ़ने के बाद आप डिप्रेशन के लक्षणों को पहचानने में सफल होंगे और खुद को और अन्य लोगों को भी डिप्रेशन जैसी बीमारी से बचा पाएंगे।

If you like the article, please do share
Uma Singh on FacebookUma Singh on GoogleUma Singh on TwitterUma Singh on Wordpress
Uma Singh
Blogger & Content Manager at News123
Uma Singh is a creative, self motivated & regular blogger on www.news123.in She has done her Post Graduation from Lucknow University, India. Uma loves to watch motivational movies and does cooking at home, she also has a great taste of food.
She tries to give her time dreaming and writing articles for news123. Uma loves to write articles on Lifestyle, Health, Fashion & Religion.
She is good in SEO promotion, Social promotions and Content marketing. You​ ​can​ ​connect​ ​with her social profile​ ​links ​or mail her at contact[at]news123[dot]in